शनिवार, 23 मई 2015

'शर्मा जी हम थोड़े बेवफा क्या हुए आप बदचलन हो गए'- तनु वेड्स मनु रिटर्न्स (Film Review)

चित्र गूगल से साभार।
लगभग 2 साल बाद किसी फ़िल्म का पहला शो देखा। तनु वेड्स मनु रिटर्न्स। पैसा वसूल हो गया। सच कहूं इस फ़िल्म को देखने के बाद मेरा ये दावा और मजबूत हो गया कि कंगना रनोट मौजूदा भारतीय फ़िल्म इंडस्ट्री की सबसे बेहतरीन अदाकारा हैं। फ़िल्म में कंगना ने मनु और दत्तो के रोल का शानदार चित्रण किया है। फिल्म इंटरवल के बाद रफ़्तार पकड़ती है।  लगभग सवा दो घंटे की ये मूवी आपको कहीं बोर नहीं होने देगी।  डायरेक्टर आनंद राय पिछली दो फिल्मों (तनु वेड्स मनु, रांझणा ) की तरह इस बार भी दर्शकों के बांधे रखने में सफल साबित हुए है। 

कहानी - फिल्म तनु वेड्स मनु से आगे बढ़ती है। तनु और मनु की शादी हो चुकी होती है। शादी के चार बाद क्या होता है कहानी इसी पर बेस्ड है। लन्दन में रह रहे तनु और मनु शादी के चार साल बाद तलाक लेने का फैसला लेते हैं। तनु अपने पुराने आशिक (जिमी शेरगिल ) के साथ टाइम पास करने लगती है तो वहीं मनु हरियाणा की एथलीट दत्तों (कंगना) को दिल दे बैठते हैं। पिछली बार की तरह इस बार भी कहानी में कई मोड़ हैं।

एक्टिंग- आर माधवन जहां गंभीर मुद्रा के रोल में जमे हैं तो वहीं जीशान अयूब, स्वरा भास्कर, पप्पी की रोल में दीपक डोबरियाल ने अपने रोल को बखूबी निभाया है। जिमी शेरगिल पिछली बार की तरह इस बार भी छाप छोड़ने में सफल साबित हुए हैं। कंगना ने पत्नी और प्रेमिका का रोल तो वहीं माधवन ने पति और प्रेमी के रोल को शिद्दत से निभाया है।

डायलॉग्स- मैं कोई संतरा हूं कि रस भर जाएगा'  या 'शर्मा जी हम थोड़ा बेवफा क्या हुए आप तो बदचलन हो गये'  या 'पिछली बार भैया दूज पर सेक्स किया था' जैसे शानदार डायलॉग्स भी हैं। जो आपको हंसने में मजबूर कर देंगे। 

म्यूजिक- फ़िल्म का संगीत पहले ही लोगों को काफी पसंद आ रहा है। स्वैगर, मूव ऑन, घनी बावरी सभी गाने फिल्म के मुताबिक ही हैं।

क्या है खा- कुल मिलाकर फिल्म को 2015 की सर्वश्रेठ फ़िल्म कहा जाये तो गलत न होगा। इस संडे फैमिली के साथ आप फिल्म का आनंद ले सकते हैं।  फिल्म में तनु का (कंगना) चुलबुलापन और दत्तू (कंगना) का अक्खड़पन आपको जरूर लुभायेगा। हिमांशु शर्मा की कहानी आपका पूरा मनोरंजन करेगी।


रेटिंग- 3.5 / 5

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर समीक्षा, अभी तक मैंने फ़िल्म देखी नहीं है, लेकिन लगता है कि अब जल्द ही देखनी पड़ेगी...

    उत्तर देंहटाएं

  2. सुन्दर समीक्षा दो डायलॉग जिन्होंने बहुत हसाया

    कुसुम सागवान : "शर्मा जी तने लुगाई का सुख तो मै दे न सकु, फिर भी कदी खाना खाना हो तो आ जइयो "

    जिमि शेरगिल : " साला ओरिजनल को भी यही रखेंगे , और डुप्लीकेट को भी ,हमारी लंका लग गई पड़ी है "

    उत्तर देंहटाएं